सहवाग का सन्यास एक फैन की नजर से

सोमवार रात करीब 11 बजे फुर्सत में जब वट्सएप्प ओपन किया तो एक ग्रुप में सहवाग के शानदार करियर का मैसज पड़ा था और लास्ट में लिखा था मिस यू वीरु. मैसज पढ़कर ऐसा लगा जैसे सहवाग ने सन्यास ले लिया हो क्योंकी वो मैसेज एक फिनिशिंग मैसेज की तरह था. मन में थोडी शंका के साथ घबराहट भी हुई की क्या ये सच है? तुरंत फेसबुक ओपन किया, टाइमलाइन पर सहवाग के रिटायरमेंट की ख़बर थी. ट्विटर पर भी टॉप टेन ट्रेंड में #थैंकयूसहवाग ट्रेंड कर रहा था. सहवाग को जितना प्यार मिल रहा था, साथ में धोनी को उतनी ही गालियां मिल रही थीं.

दिल मानों टूट सा गया था, एक बहुत गहरा धक्का लगा था. क्रिकेट देखना तो सहवाग के टीम से बहार होने के साथ ही छूट गया था मगर फिर भी इक्का-दुक्का लोगों के मुंह से क्रिकेट की बात सुनाई पडती तो सहवाग की याद आ ही जाती थी. लोग कोहली की पारी की बात कर रहे होते थे मगर मन में तो बस नजफगढ़ के नवाब के चौके-छक्के ही बसे थे.

अब तक सहवाग की वापसी की उम्मीद के साथ दिल में क्रिकेट का कुछ जुनून सा बाकी था मगर अब वो भी खत्म हो गया. वहीं दूसरी ख़बर थी कि सहवाग ने अभी इसकी अधिकारिक रुप से पुष्टी नहीं की है. मन में फिर से उम्मीद की किरण जागी की शायद अभी इस बल्लेबाज का फेयरवेल मैच के रुप में एक शानदार पारी देखने का मौका मिलेगा और बहुत दिन बाद मैं मैच देखूंगा. उम्मीद पूरी थी कि जिस खिलाड़ी ने भारत को और क्रिकेट जगत को इतना कुछ दिया उसे कम से कम एक आखरी मैच खेलने का मौका तो मिलेगा. मगर पता चला की बीसीसीआई ने सहवाग की ये अपील भी ठुकरा दी, सहवाग दक्षिण अफ्रीका में होने वाली टेस्ट सीरीज में टेस्ट मैच खेलना चाहते थे मगर उनके नाम के बगैर ही टीम का ऐलान कर दिया गया.

ये ख़बर पढ़ कर स्वार्थ से भरी इस दुनिया से मन सा उठने लगा. मन में सवाल कौंदने लगे क्या बीसीसीआई के लिए पैसा ही सबकुछ हो गया? क्या कोई क्रिकेट बोर्ड दुनिया के इस महान खिलाड़ी को सम्मान के साथ विदाई भी नहीं दे सकता. फिर उसका दुनिया का सबसे बडा क्रिकेट बोर्ड कहलाने का फायदा ही क्या. क्रिकेट जगत की जिस गंदी राजनीति का शिकार सहवाग हुए उसकी परतें अब खुलने लगी हैं. क्रिकेट की दुनिया के बाहुबली सामने आने लगे हैं. वीवीएस लक्षमण, राहुल द्रविड, सचिन तेंदुलकर और जहीर खान जैसे दिग्गजों के सन्यास की यादें मन में आने लगीं. किस तरह एक-एक कर सारे सीनियर खिलाड़ियों को टीम से बहार कर दिया गया. सहवाग के सन्यास के साथ ही अगली बारी गंभीर और युवराज की नज़र आने लगी है.

बुराई पर अच्छाई की जीत के त्योहार दशहरा से पहले ही अच्छाई पर बुराई की जीत हो गई. मन में तमाम ऐसे खिलाडियों की लिस्ट सामने आने लगी जो खराब फोर्म के बावजूद लगातार टीम में बने हुए हैं. अगले ही दिन सहवाग ने भी अपने 37वें जन्मदिन के दिन अधिकारिक रुप से सन्यास की घोषणा कर क्रिकेट की दुनिया में एक विस्फोट सा कर दिया.

मन में अब सहवाग की तूफानी पारीयां याद आने लगी थी, याद आने लगे वो दिन जब सचिन, सहवाग, गंभीर क्रीज पर होते थे. याद आने लगे वो दिन जब सहवाग के आउट होते ही टीवी बंद हो जाता था और हाथ में किताब आ जाती थी. एग्जाम के बीच में भी सहवाग की बैटिंग देखना नहीं भूलते थे. उन दिनों लाईट भी बहुत जाती थी और लाईट जाते ही केबल ऑपरेटर का नेटवर्क भी चला जाता था. फिर भाग कर गली में खड़ी कार में एफएम गोल्ड लगाता था, ताकि कहीं कोई छक्का-चौक्का ना छूट जाए.

ये बीएसएनएल चौका जब कानों में पडता था तो मन झूम जाता था. पडोसी भी अंगड़ाई तोड़ते हुए कमेंट्री सुनने अपनी रेलिंग पर आ जाते थे. क्या जुनून था वो, क्या दौर था वो, क्या क्रेज था वो जो अब कभी वापस नहीं आने वाला. जिस दुकान पर टीवी में क्रिकेट मैच चल रहा होता था, वहाँ देखने वालों की भीड़ अपने आप जुट जाती थी. आजकल तो ऐसा नजारा नज़र नहीं आता. वैसे हम खुशनसीब भी हैं की हमने क्रिकेट का वो गोल्डन पीरियड देखा है जिसमें सचिन और सहवाग खेलते थे.

सचिन के नर्वस नाईनटीस के दौर में भी सहवाग अपना शतक छक्का मार कर ही पूरा करते थे. सचिन बीच बीच में समझाते भी रहते थे की धीरे खेल सहवाग मगर सहवाग कहाँ मानने वाले थे. वे तो बस इसी फिराक में रहते थे की कब चौका या छक्का मारुं. जब सहवाग टेस्ट क्रिकेट में अपने पहले तिहरे शतक के करीब थे तो उन्होंने सचिन से कहा की सर अब में धीरे नहीं खेलूंगा अब टीम भी अच्छी पोजीशन पर आ गयी है, आउट भी हो गया तो कोई फिक्र नहीं. तब 294 पर खड़े सहवाग ने अपने 300 रन छक्का लगा कर पूरा किया था.

ऐसा विस्फोटक बल्लेबाज जिसने पाकिस्तान में जाकर रावलपिंडी एक्सप्रेस की पिंडी कंपा दी थी. इस खिलाडी की एक और खासियत थी की जहाँ कोई ना चले वहाँ सहवाग चलता था. ऐसे बहुत से मौके आए जब पूरी टीम एक तरफ और सहवाग एक तरफ. वर्ल्ड कप 2011 की बात करें तो सहवाग ने वर्ल्ड कप के पहले मैच की शुरुआत चौका मार कर की, हो सकता है बॉलर पहले मैच में सहवाग की चौका मारने की इस इच्छा से वाकिफ ना हो. मगर काबिलियत का पता तभी चलता है जब सामने वाले बॉलर को पता है कि ये चौका मारना चाहता है फिर भी सहवाग हर मैच की हर पहली गेंद पर चौका मारने लगे.

सहवाग जब तक क्रीज पर रहते थे तब तक दिल की ध़डकनें बढी ही रहती थी, एक पल भी टीवी स्क्रीन से नज़र हटाना मंजूर नहीं होता था. कोई नहीं जानता था कि अगले पल क्या होगा…आऊट या सिक्स. आज हालत ये है कि टीवी में स्पोर्टस पैक की भी ज़रुरत महसूस नहीं होती. पसंदीदा खिलाडियों के टीम से बहार निकल जाने के बाद अब क्रिकेट में मन सा ही नहीं लगता. पता नहीं आजकल लोग फिक्सिंग के साये में कैसे मन लगाते हैं. जाते-जाते सहवाग से एक उम्मीद बाकी थी की कम से कम सहवाग का जलवा आईपीएल में तो देखने को मिलेगा मगर सहवाग उससे भी मना कर गए. सहवाग के अंतराष्ट्रिय क्रिकेट से सन्यास के बाद हमारे सर पर सवार क्रिकेट का भूत भी अब उतरने लगा है. सहवाग के सन्यास के बाद ही हमने भी क्रिकेट देखने से सन्यास ले लिया है. क्योंकी क्रिकेट की दुनिया में ऐसा खिलाडी ना कभी था और ना कभी आएगा.

47 Responses

Leave a Comment